APJ Abdul Kalam कैसे व्यक्ति थे, Abdul Kalam ji की जीवनी जानिए – APJ Abdul Kalam Biography in Hindi.

हेलो दोस्तों कैसे हैं, आप लोग स्वागत है आपका स्वागत है, Desi Bharat  में, आज का आर्टिकल हम सबके प्यारे Abdul Kalam जी के ऊपर है, उनकी एक ऐसी जीवनी है, जिनसे लाखों लोग प्रेरित हुए बैठे हैं, और वह उन लोगों के लिए मिसाल बने बैठे हैं, जो लोग अपनी निजी जिंदगी में कुछ बड़ा करने की सोचते हैं, और ऐसे ही बड़ी सोच रखने वाले हमारे Abdul Kalam जी ने क्या खूब कहा है,

सपने वो नहीं जो हम सोते हुए देखते हैं, सपने तो वह हैं जो हमें सोने नहीं देते हैं,

इसी के साथ यह हमारे देश के eleventh राष्ट्रपति भी बने थे और ऐसे महान व्यक्ति के बारे में सभी लोग जानना चाहते हैं, आप भी जानना चाहते हैं इसलिए आप हमारे आर्टिकल को पढ़ने आए हैं इसलिए आप हमारे आर्टिकल को थोड़ा Time देकर पूरा पढ़े, ताकि आप इनके बारे में पूरा और अच्छे से जान सकें और अगर आर्टिकल पसंद आए तभी हमें Subscribe करना वरना मत करना,

APJ Abdul Kalam Biography in Hindi.


APJ Abdul Kalam की जीवनी –

यह कहानी शुरू होती है 15th अक्टूबर 1921 से जब हमारे प्यारे सबके प्यारे Abdul Kalam जी का जन्म हुआ था, इनका जन्म तमिलनाडु के रामेश्वरम शहर में हुआ था, जो कि विश्व प्रसिद्ध स्थल है, ये एक मुस्लिम परिवार में जन्मे हुए थे, जिनके पिता एक नाविक थे, नाव चलाने का काम करते थे, लोगों को रामेश्वरम में धनुष्कोटी तक अपनी नाव से छोड़ते थे, इससे उन्हें इतना पैसा तो आ जाता था, जिससे वह दो वक्त की रोटी खा सकें,

लेकिन Abdul Kalam जी की सोच कुछ बड़ा करने की थी वह बचपन से ही काम कर रहे पर उनकी आर्थिक स्थिति बहुत ही नाजुक थी, कभी-कभी तो ऐसा भी हो जाता था, कि उन्हें बिना खाना खाए ही सोना पड़ता था, तभी वह इतनी छोटी सी उम्र से पेपर बेचने का काम करने लगे थे, उनके अंदर कुछ नया सीखने की भूख हमेशा रहती थी, और उनके बचपन का जीवन ऐसे ही निकला कई काम उन्होंने बचपन में ही किए ताकि अपना और घर का थोड़ा बहुत खर्चा वह भी निकाल पाएं,

APJ Abdul Kalam की पढ़ाई –

Abdul Kalam जी की पढ़ाई के बारे में बात करें तो हमारे देश के एक Respected Person थे, जिन्होंने बहुत पढ़ाई की थी, बहुत मेहनत की थी, इन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई अपने शहर के ही एक स्कूल से की थी, फिर यह St. Joseph Truchirapalli में इन्होंने Admission करा लिया और उसमें यह बेहतरीन प्रदर्शन करते रहे, और उनके उस स्कूल में कई दोस्त बने, कई टीचर भी इनके काम से प्रसन्न रहते थे, इन्होंने अपनी स्कूली पढ़ाई खत्म करने के बाद,

सन 1955 में, Madras आए वहां के Madras Institute of College से AeroSpace Engineering की Degree हासिल की, और उसमें मेहनत करने के बाद,

Abdul Kalam का वैज्ञानिक तौर पर काम –

ये DRDO में एक वैज्ञानिक के तौर पर चुने गए,

DRDO मैं एक सीमित काम रहता था एक ही काम को रोजाना करते रहना पड़ता था जिससे Abdul Kalam जी कुछ सीख नहीं पा रहे थे, उन्हें एक ही काम को रोज-रोज करके वह पर बोर होते थे, कुछ साल ऐसे ही बीतते गए, वह अपने काम में और भी मजबूत बनते गए, और अपने बेहतरीन प्रदर्शन से उन्होंने अपनी जगह ISRO में बना ली,

अदुल कलम की सफलता –

ISRO में काम करने से इन्हें बस Satisfaction मिला जो उन्हें पहले तक नहीं मिल पा रहा था, ISRO से इन्होने बहुत सारे Rocket, Missile ईत्यादि कई सारे काम किए, और इसी के चलते इन्हें हमारे भारत देश का सन 2002 में 11वे राष्ट्रपति का पद भी हासिल किया,

वह भी सिर्फ और सिर्फ अपने अच्छे काम और अपनी लगन से इन्हें पद्म भूषण से भी सम्मानित किए जा चुके हैं, इतने बड़े पद को हासिल करके ये लोगों के लिए एक प्रेरणा के रूप में सामने आए जिससे लोग भी इन्हें इनके जाने के बाद भी याद करते हैं इनकी कहानी का समाप्त 27th जुलाई 2015 को हो गया था, इस दिन उनका निधन हुआ था, लेकिन यह आज भी हम सभी के लोगों के दिलों में एक मिसाल के रूप में बसे हुए हैं,

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Company

Our Desi bharat website brings you the convenience of instant access to a diverse range of titles, spanning genres from fiction and non-fiction to self-help, business.

Features

Most Recent Posts

Category