राजस्थान के इस गांव में वेश्यावृति है कारोबार

राजस्थान के इस गांव में वेश्यावृति है कारोबार

भारत में वेश्यावृत्ति को हमेशा गलत नज़रिए से देखा गया है.  वेश्यावृत्ति को पेशे के तौर पर कभी किसी ने स्वीकार नहीं किया

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि वेश्यावृत्ति भी एक प्रोफेशन है.

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि वेश्यावृत्ति भी एक प्रोफेशन है.

सेक्स वर्कर्स को सम्मानीय जीवन जीने का हक है. इसलिए पुलिस ऐसी महिलाओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई नही कर सकती

सेक्स वर्कर्स को सम्मानीय जीवन जीने का हक है. इसलिए पुलिस ऐसी महिलाओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई नही कर सकती

अदालत ने यह भी कहा कि किसी भी वेश्यालय में छापे के दौरान सेक्स वर्कर्स को “गिरफ्तार, दंडित, परेशान नहीं किया जाना

राजस्थान का ऐसा गांव जहां वेश्यावृत्ति पहले से एक पेशा है. यहां की रहने वाली बेड़िया जाति में 12-13 साल की लड़कियों को वेश्यावृत्ति में भेज दिया जाता है

भरतपुर के खाकरानागला गांव की जहां लड़कियों को 12-13 साल में ही वेश्यावृत्ति में भेज दिया जाता है

किशोर लड़कियों को परिवार की ‘परंपरा’ में दीक्षा दी जाती है, जबकि उनके भाई ‘एजेंट’ बन जाते हैं.